Lifestyle News

प्रेग्नेंसी में खाने के साथ ही कितनी मात्रा में खाएं, ये जानना भी है बेहद जरूरी

  • 13-Jul-2020
  • 438
स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए गर्भवती महिला को हर कोई क्या खाएं इसकी सलाह तो देता है लेकिन कितनी मात्रा में खाएं इस पर शायद ही किसी का ध्यान जाता है तो आज हम इसी के बारे में जानेंगे।
Lifestyle News प्रेग्नेंसी में खाने के साथ ही कितनी मात्रा में खाएं, ये जानना भी है बेहद जरूरी

प्रेग्नेंसी के दौरान की जाने वाली हर एक एक्टिविटी का असर आपके साथ गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी पड़ता है। इसलिए घर, परिवार से लेकर डॉक्टर तक तरह-तरह के सलाह देते हैं जिसपर जरूर गौर करना चाहिए। खानपान पर तो खास तौर पर फोकस करना चाहिए। क्या खाएं ये जानना तो जरूरी है ही साथ ही कितनी मात्रा में खाएं ये भी उतना ही जरूरी है जिसके बारे में आज हम बात करेंगे।

1. प्रेग्नेंसी के दौरान सामान्य से ज्यादा भूख लगना आम बात है। यह भी सच है कि गर्भावस्था के दौरान सामान्य से ज्यादा कैलोरीज़ की जरूरत होती है लेकिन इसका मतलब नहीं है कि आप दोगुनी या तीन गुनी डाइट लेने लगें। यहां तक कि मल्टिपल प्रेग्नेंसी के मामले में भी ऐसा नहीं करना चाहिए।

2. हर दो घंटे के अंतराल पर छोटी-छोटी मील्स लेती रहें जिससे भूख न लगे। खाने में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों की मात्रा ज्यादा रखें।

3. प्रेग्नेंसी क पहले छह महीनों (पहले और दूसरे ट्राइमेस्टर) के दौरान एक गर्भवती स्त्री को प्रतिदिन 2000 कैलोरीज की दरकार होती है। वहीं प्रेग्नेंसी के अंतिम तीन महीनों (तीसरे ट्राइमेस्टर) के दौरान हर दिन 2200 कैलोरीज की दरकार होती है। मल्टिपल प्रेग्नेंसी के मामले में कैलोरीज की जरूरत थोड़ी और ज्यादा हो सकती है, पर यह डॉक्टर की सलाह के हिसाब से ही तय करें।

4. कोई भी चीज़ बहुत ज्यादा मात्रा में न खाएं।

5. जूस पीने की जगह फल खाना ज्यादा लाभकारी है। सैलेड के रूप में सब्जियां भी जरूर खाएं। ऐसा करने से बच्चे के जन्म के बाद स्तनपान की प्रक्रिया में फायदा होता है।

6. तेल मसाले वाला खाना न खाएं।

7. प्रेग्नेंसी में अधपका और कच्चा मांस नहीं खाना चाहिए। इनमें बैक्टीरिया हो सकते हैं, जिससे गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंच सकता है। अच्छी तरह से पका हुआ नॉनवेज ही खाना चाहिए।