Sport News

अगला आईपीएल भी खेलेंगे महेंद्र सिंह धोनी...

  • 02-Nov-2020
  • 461
अबु धाबी। आईपीएल -13 में निराशाजनक प्रदर्शन और प्लेऑफ की होड़ से बाहर हो जाने के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर लगातार अटकलें चल रही थीं कि यह उनका आखिरी आईपीएल होगा लेकिन धोनी ने स्पष्ट किया है कि वह अगले वर्ष खेलने जा रहे हैं।
Sport News अगला आईपीएल भी खेलेंगे महेंद्र सिंह धोनी...

धोनी ने रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ टॉस जीता और टॉस के बाद जब उनसे पूछा गया कि चेन्नई के लिए क्या यह आखिरी मैच है, तो धोनी ने कहा कि निश्चित रूप से नहीं। धोनी के इन शब्दों के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि वह अगले सत्र में चेन्नई के लिए खेलने जा रहे हैं। चेन्नई ने धोनी की कप्तानी में तीन बार खिताब जीता है और वह पांच बार उपविजेता रही है। इस साल का आईपीएल पहला मौका है जब धोनी की कप्तानी में चेन्नई टीम प्लेऑफ में नहीं पहुंच पायी है। धोनी ने इस साल 15 अगस्त को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी थी और इस बार के आईपीएल में सभी की नजरें उनके प्रदर्शन पर लगी हुई थीं। चेन्नई टीम के 2016 और 2017 में स्पॉट फिक्सिंग के लिए निलंबित होने के बाद चेन्नई की टीम ने 2018 में धोनी की कप्तानी में वापसी की और तीसरी बार खिताब जीता। चेन्नई 2019 में फाइनल में पहुंचकर उपविजेता रही। इस सत्र में चेन्नई ने उद्घाटन मैच में चैंपियन मुंबई इंडियंस को हराकर शानदार शुरुआत की लेकिन इसके बाद उसके प्रदर्शन में गिरावट आती चली गयी। चेन्नई की बल्लेबाजी और गेंदबाजी में मारक क्षमता का अभाव दिखाई दिया। टूर्नामेंट शुरू होने से पहले चेन्नई के दो महत्वपूर्ण खिलाड़ी सुरेश रैना और हरभजन सिंह निजी कारणों से आईपीएल से हट गए। चेन्नई ने इन दोनों खिलाड़ियों के लिए कोई विकल्प भी नहीं लिया। चेन्नई के आलराउंडर ड्वेन ब्रावो घुटने की चोट के साथ आईपीएल पहुंचे और कुछ मैच चूकने के बाद जब उन्होंने आईपीएल में खेलना शुरू किया तो उनके प्रदर्शन में पुरानी वाली बात नजर नहीं आई और टीम की बल्लेबाजी मध्य ओवरों में प्रभावित हुई। धोनी का विकेट के पीछे तो प्रदर्शन शानदार रहा लेकिन बल्ले से फिनिशर धोनी नदारद थे। धोनी के लम्बे छक्के गायब थे, वह स्ट्राइक रोटेट नहीं कर पा रहे थे और उनके बल्ले से रन नहीं निकल पा रहे थे। धोनी इसके लिए लगातार आलोचना का शिकार होते रहे। धोनी ने जब युवा खिलाड़ियों में स्पार्क में कमी की बात कही तो उनके खिलाफ आलोचना और तेज हो गयी। पूर्व भारतीय कप्तान और चयनकर्ता प्रमुख कृष्णामाचारी श्रीकांत ने धोनी को इस बयान पर आड़े हाथों लिया।