Sport News

ऋषभ पंत से पहले दीपक हुड्डा को प्लेइंग XI में मौका देकर कितनी बड़ी गलती कर बैठे कप्तान रोहित शर्मा?

  • 31-Oct-2022
  • 230
बल्लेबाजी में दीपक हुड्डा बिना खाता खोले पवेलियन लौटे, वहीं गेंदबाजी करने का उन्हें मौका नहीं मिला। ऐसे में ऋषभ पंत से पहले दीपक हुड्डा को मौका देने का फैसला फैंस समेत क्रिकेट पंडित के समझ के परे था।
Sport News ऋषभ पंत से पहले दीपक हुड्डा को प्लेइंग XI में मौका देकर कितनी बड़ी गलती कर बैठे कप्तान रोहित शर्मा?

साउथ अफ्रीका के खिलाफ रविवार को टी20 वर्ल्ड कप के अपने तीसरे मुकाबले में भारत ने प्लेइंग XI में एकमात्र बदलाव किया। विपक्षी टीम की खतरनाक गेंदबाज और उस टीम में अधिक बाएं हाथ के बल्लेबाज होने के कारण रोहित शर्मा ने अक्षर पटेल को ड्रॉप करने का फैसला किया। उनकी जगह दीपक हुड्डा को शामिल किया गया, रोहित ने यह बदलाव शायद इस वजह से किया ताकि बल्लेबाजी में गहराई के साथ वह उनकी ऑफ स्पिन का इस्तेमाल कर सकें। मगर मैच में रोहित शर्मा का यह फैसला टीम पर भारी पड़ गया। बल्लेबाजी में दीपक हुड्डा बिना खाता खोले पवेलियन लौटे, वहीं गेंदबाजी करने का उन्हें मौका तक नहीं मिला। ऐसे में ऋषभ पंत से पहले दीपक हुड्डा को मौका देने का फैसला फैंस समेत क्रिकेट पंडित के समझ के परे था।

दीपक हुड्डा के टीम में चयन के बाद कई पूर्व भारतीय खिलाड़ियों ने रोहित शर्मा के इस फैसले पर सवाल उठाए। इनमें दो बड़े नाम वसीम जाफर और गौतम गंभीर के थे। 

वसीम जाफर ने क्रिकट्रैकर से बात करते हुए कहा था - अगर दीपक हुड्डा गेंदबाजी नहीं करेंगे तो ऋषभ पंत बेहतर विकल्प हो सकते थे। उन्होंने इन परिस्थितियों में खेला है और उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में रन भी बनाए हैं। वहीं दीपक हुड्ड अभी तक ऑस्ट्रेलिया में नहीं खेले। अगर भारत उसका बतौर स्पिनर इस्तेमाल नहीं करती है तो तो ऋषभ पंत को एक अतिरिक्त बल्लेबाज के रूप में खिलाना चाहिए थे। इससे मैं हैरान हूं।
वहीं स्टार स्पोर्ट्स पर गौतम गंभीर इस फैसले पर बोले थे - हां, यह मेरे लिए सरप्राइज करने वाला था। आप एक और बल्लेबाज के साथ क्यों जाना चाहते हैं, जब आपके लिए कुछ काम कर रहा है। मुझे पता है कि अक्षर ने ज्यादा गेंदबाजी नहीं की, लेकिन उसने पिछले मैच में 4 ओवर डाले थे। भारत सिर्फ पांच गेंदबाजों के साथ खेल रहा है और हुड्डा छठे गेंदबाज होंगे। शायद ये वजह है कि दक्षिण अफ्रीका की टीम में कुछ बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं, सिर्फ यही वजह है, जोकि मुझे लगता है। लेकिन आप से कहां खिलाएंगे? क्या आप उसे सातवें नंबर पर बल्लेबाजी कराएंगे? वह ऐसा नहीं है जो सातवें नंबर पर बल्लेबाजी कर सकता है। यह अच्छा है कि आपकी बल्लेबाजी में गहराई है, इसमें कुछ भी गलत नहीं है लेकिन यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपको कौन मिल रहा है। यदि बल्लेबाज स्थिति के अनुकूल है, तो यह भी मायने रखता है और हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि भारत कम मजबूत गेंदबाजी लाइन-अप के साथ कैसा प्रदर्शन करता है।ऋषभ पंत बनाम दीपक हुड्डा

दीपक हुड्डा ने हाल ही में भारत के लिए क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में लाजवाब प्रदर्शन किया है। अभी तक खेले 13T20I मुकाबलों में उन्होंने 36.62 के औसत और 153.4 के स्ट्राइक रेट के साथ 293 रन बनाए हैं। लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इसमें से आधे से ज्यादा रन उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ ही बनाए हैं। आयरलैंड के खिलाफ खेले दो मैचों में दीपक हुड्डा ने 104 और 47 रनों की पारी खेली थी।

वहीं बात ऋषभ पंत के आंकड़ो की करें तो उनके पास 62T20I मैचों का अनुभव है। पंत ने अपने टी20 करियर में 961 रन बनाए हैं। वहीं उन्हें ऑस्ट्रेलिया के बाउंसी ट्रैक पर खेलने का भी अनुभव है। वह ऑस्ट्रेलिया में टी20 के अलावा वनडे और टेस्ट में भी कई बेहतरीन पारियां खेल चुके हैं। अगर रोहित शर्मा को एक अतिरिक्त बल्लेबाज ही खिलाना था तो ऋषभ पंत कोई बुरा विकल्प नहीं थे। अभी तक ऐसा लग रहा था कि पंत इस वजह से बाहर बैठे हैं क्योंकि दिनेश कार्तिक टीम में है, लेकिन दीपक हुड्डा को उनसे पहले मौका मिलने पर टीम मैनेजमेंट और कप्तान पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।