Lifestyle News

World Osteoporosis Day 2022: 'एंटीबायोटिक सीमेंट' से रोका जा सकता है हड्डी का संक्रमण, शोध में हुआ दावा

  • 18-Oct-2022
  • 233
World Osteoporosis Day 2022: कई बार हड्डियों के संक्रमण की वजह से शरीर के अंगों को काटना भी पड़ता है। अब अमेरिकी शोधकर्ताओं ने एक ऐसा एंटीबायोटिक सीमेंट विकसित किया है, जिससे हड्डियों के संक्रमण को रो
Lifestyle News World Osteoporosis Day 2022: 'एंटीबायोटिक सीमेंट' से रोका जा सकता है हड्डी का संक्रमण, शोध में हुआ दावा

World Osteoporosis Day 2022: विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस प्रतिवर्ष 20 अक्टूबर को मनाया जाता है। यह खास दिन ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, निदान और उपचार के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। बता दें, हड्डियों का संक्रमण एक खतरनाक बीमारी है। कई बार हड्डियों के संक्रमण की वजह से शरीर के अंगों को काटना भी पड़ता है। अब अमेरिकी शोधकर्ताओं ने एक ऐसा एंटीबायोटिक सीमेंट विकसित किया है, जिससे हड्डियों के संक्रमण को रोका जा सकेगा।

‘ब्रिघम सेंटर फॉर इंजीनियर थेरेप्यूटिक्स’ के सह-निदेशक और अध्ययन के प्रमुख लेखक हे लिन जंग ने दावा किया है कि एंटीबायोटिक सीमेंट के परिणाम काफी उत्साहजनक रहे हैं। वर्तमान में खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने इस एंटीबायोटिक सीमेंट को मंजूरी भी दे दी है, जो मूल रूप से हड्डी के ऊतकों को विकसित करती है। शोध के अनुसार, इस एंटीबायोटक सीमेंट से हड्डियों को ठीक करने के लिए इंसानों की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हुई है। उन्होंने कहा, हमें बेहतर एंटीबायोटिक दवाओं की एक नई पीढ़ी का निर्माण करना चाहिए, जो इस उभरती जरूरत को पूरा करने के लिए अनुकूलित हो। गौरतलब है कि हर साल 7,00,000 लोग एंटीबायोटिक दवाओं के इस्तेमाल के कारण जान गंवा देते हैं।

शोधकर्ताओं ने कहा कि सर्जरी जैसी सामान्य प्रक्रियाओं में स्टेफिलोकोकल जैसे जीवाणु से संक्रमण होता है, जिसका वर्तमान में एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज किया जाता है और ये दवाएं संक्रमण को सटीक रूप से लक्षित नहीं कर पाती हैं। इसलिए ज्यादा मात्रा में दवा लेने के कारण मरीज की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से संक्रमण बढ़ता है।

संक्रमण के लक्षण-
● हड्डियों में असहनीय दर्द होना।
● त्वचा पर लालपन और सूजन का आ जाना।
● छूने पर ऊपरी त्वचा गर्म होने जैसे लक्षण दिखना।
● त्वचा पर जख्म वाली जगह से मवाद का रिसना।
● मवाद का रंग पीला और गाढ़ा या द्रवीय होना।

खून के जरिए पहुंचता है बैक्टीरिया-
जिस तरह बैक्टीरिया शरीर के अन्य अंग के ऊतकों पर हमला करते हैं उसी तरह ये हड्डियों पर भी हमला करते हैं। ये सूक्ष्म जीवी बैक्टीरिया आमतौर पर खून के जरिये हड्डियों तक पहुंच जाते हैं। कुछ मवाद पैदा करने वाले सूक्ष्म जीवी बैक्टीरिया से हड्डियों में गंभीर संक्रमण रोग हो सकता है।

यह सीमेंट अधिक प्रभावशाली-
शोधकर्ताओं ने एंटीबायोटिक सीमेंट बनाने के लिए पॉलीमेथाइल मेथैक्रिलेट (पीएमएमए) का उपयोग किया। टीम ने प्रीक्लिनिकल मॉडल में दवा की संवेदनशीला और दवा प्रतिरोधी बैक्टीरिया की जांच की। पीएमएमए सीमेंट स्टैफिलोकोकल बोन इन्फेक्शन के खिलाफ वर्तमान में उपयोग किए जाने वाले सभी एंटीबायोटिक-लोडेड सीमेंट्स की तुलना में अधिक प्रभावशाली रहा।