पशु चिकित्सा दफ्तर में कार्यरत एक लिपिक 25 सौ रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया।

  • 02-Sep-2020
  • 427
जांजगीर-चांपा के पशु चिकित्सा दफ्तर में कार्यरत   एक लिपिक 25 सौ रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया। बिलासपुर एसीबी की टीम ने यह कार्रवाई की है। 
 पशु चिकित्सा दफ्तर में कार्यरत एक लिपिक 25 सौ रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया।

एसीबी और ईओडब्ल्यू के निदेशक एवं पुलिस उप महानिरीक्षक आरिफ शेख के मार्गदर्शन में एवं एसपी पंकज चन्द्रा के दिशा-निर्देश पर भ्रष्टाचार रोधी कार्यवाही के लिए एसीबी टीम आज जांजगीर-चांपा पहुंची। इस दौरान यहां उप संचालक पशु चिकित्सा दफ्तर में पदस्थ, सहायक ग्रेड-3 दीपक कुमार यादव 25 सौ रूपये रिश्वत लेते पकड़ा गया। उसे न्यायिक रिमांड पर भेजा जा रहा है। 

जानकारी के मुताबिक एसीबी बिलासपुर में शिकायत आई थी कि एक आवेदक अपनी पत्नी के इलाज के लिए 1 लाख रूपये पार्ट फाइनल निकलवाने उप संचालक पशु चिकित्सा जांजगीर चांपा में आवेदन दिया है, जिसे स्वीकृत कराने के लिए कार्यालय में पदस्थ लिपिक द्वारा 5 हजार रूपये की मांग की जा रही है। जांच में उसकी यह शिकायत सही पाई गई। आवेदक और आरोपी के बीच आज रिश्वत की पहली किस्त के रूप में 25 सौ रूपये देने पर सहमति हुई थी। एसीबी टीम द्वारा जाल बिछाकर आरोपी को उसके दफ्तर में ही यह रूपये लेते गवाहों के सामने पकड़ लिया गया।